हमारे यूजर में से एक ने पूछा कि कौन सी भाषा ब्लॉगिंग के लिए सबसे अच्छी है – Hindi Ya Hinglish. यदि आप भी इस टॉपिक पर आर्टिकल की तलाश कर रहे है, तो आप बिलकुल सही जगह पर है।

यह आर्टिकल Hindi vs Hinglish blog के बारे में आपके सारे प्रश्नों और confusions को क्लियर कर देगा और आपको decide करने में मदद करेगा Blogging किस भाषा में करना बेहतर है।

Hindi Ya Hinglish For Blogging


Hindi Ya Hinglish: Kis Bhasha Me Blogging Kare

आज के समय में ब्लॉग्गिंग एक बिज़नस का रूप ले लिया है, हर कोई ब्लॉग बनाना चाहता है और अपने ब्लॉग द्वारा ढेर सारे पैसा कमाना चाहता है। यदि आप भी अपनी एक ब्लॉग बनाना चाहते है, तो आप बना सकते है। लेकिन आपको सबसे पहले तय करना होगा कि कौन सी भाषा Blogging में आपके लिए बेहतर होगी। 

हालकी Blogging किसी भी भाषा में शुरू की जा सकती है। कई ऐसे ब्लॉगर है जो अपने Country language के आधार पर blogging करते है।

इन्टरनेट पर english ब्लॉग की संख्या सबसे ज्यादा है। इसका कारण English ब्लॉग हिंदी ब्लॉग की तुलना में अधिक popularity और पैसा कमाते है। लेकिन आपकी English पर अच्छी पकड़ होनी चाहिए अन्यथा यह आपके विजिटर के user Experience को बहुत प्रभावित करेगी।

यदि आप एक HIndi blog बनाने के बारे में सोच रहे है, तो मैं आपको अभी शुरू करने की सलाह दूंगा। Hindi ब्लॉग द्वारा आप अपनी मातृभाषा में दुनिया के सामने अपने विचार और प्रस्ताव रख सकते है।

India में कई ऐसे लोग है जो English blogs की आर्टिकल को नहीं समझ पाते हैं लेकिन Information पाने की चाहत रखते हैं। यदि आप अपनी ब्लॉग हिंदी में लिखते हैं, तो ऐसे लोगो से ढेर सारा traffic आसानी से प्राप्त कर सकते है।

Currently, हिंदी दुनिया की टॉप 10  languages में आती है और 260 million people द्वारा बोली जाती है। इसी से आप अनदजा लगा सकते है कि हिंदी ब्लॉग से भी अच्छा popularity, traffic और पैसा कमाया जा सकता है।

अब बात आती है कंटेंट किस भाषा में लिखें – Hindi Ya Hinglish, कौन सी भाषा सर्च इंजन में अच्छा रैंक करेगी।


ब्लॉग्गिंग में अक्सर नए ब्लॉगर कंफ्यूज हो जाते है उन्हें कंटेंट किस भाषा में लिखनी चाहिए Hindi or Hinglish. इसका मुख्य कारण:

  • SEO के लिए कौन सी language बढ़िया है – Hindi Ya Hinglish
  • अधिकांश लोग अपने प्रश्नों को खोजने के लिए English keywords का उपयोग करते हैं, तो ऐसे में आपकी ब्लॉग सर्च रिजल्ट में नजर नहीं आयेगी।
  • Hinglish को आने वाले दिनों में गूगल स्पाम साईट के रूप में Treat करेगी।

यहाँ मैं पहले Hindi और Hinglish के Difference थोडा क्लियर कर देता हूँ:

हिंदी (Hindi) – हिंदी इंडिया की मातृभाषा है। इसकी लिपि देवनागरी है जिसे हम बचपन से किताबों में पढ़ते और लिखते आये है।

उदहारण के लिए,

ब्लॉग्गिंग किस भाषा में करें – हिंदी या हिंगलिश

वैसे तो हम हिंदी भाषा को अन्य लिपि में भी लिख सकते है जिसका सबसे बड़ा उदहारण Hinglish है

Hinglish (हिंगलिश) – Hinglish को किसी भी प्रकार की मन्यता प्राप्त नहीं है यह Hindi + English = Hinglish से मिलकर बना हुआ है

उदहारण के लिए,

Hindi Ya Hinglish: Blogging Ke Liye Kaun Si Bhasha Behtar Hai

मैं आशा करता हूँ, आप Hindi और Hinglish के Difference को अच्छी तरह से समझ गए होंगे।

Google Webmaster में विनोद जी ने एक प्रश्न पूछा था

मेरे पास एक बहुभाषी वेबसाइट है जो अंग्रेजी और हिंदी में हैं, पर मैं हिंदी कंटेंट हिंगलिश में लिखता हूँ क्या यह चिंता का कारण है?

बहुत से लोग कह रहे है कि अगर मैं हिंदी कंटेंट हिंगलिश में लिखता हूँ, तो यह परेशानी का एक वजह हो सकता है

हिंदी कंटेंट का भविष्य क्या है? 


 यहाँ गूगल के आभास त्रिपाठी विडियो में बताते है,

जहाँ तक हिंदी कंटेंट की बात है तो वर्तमान में भारत में 52 करोड़ हिंदी बोलने वाले लोग है और दुनिया भर में यह संख्या इससे भी कही ज्यादा है इनमें से जो लोग दूसरी भाषा के रूप में अंग्रेजी बोल सकते हैं बड़ी संख्या में वो पहले से ही ऑनलाइन है तो ऐसे में आज ऑनलाइन आने वाले अधिकांश लोग मूल हिंदी भाषी हैं और वे अपनी ही भाषा में कंटेंट ढूंढ रहे हैं KPMG ने 2017 में भारतीय भाषाओं पर एक रिपोर्ट तैयार की थी जो ये बताती है कि 2021 तक भारत में 20 करोड हिंदी बोलने वाले लोग ऑनलाइन आएंगे हमारे अपने निष्कर्ष भी हमें ये बताते हैं कि 2012 से 2015 के बीच में हिंदी सर्च query तीन गुना बढ़ी है जबकि समाचार शब्द जो है उसका सर्च 2013 से 2015 के बीच में दुगना हुआ है तो ये सभी रुझान हमें स्पष्ट रूप से ये  बताते हैं कि आने वाला समय हिंदी और अन्य क्षेत्रीय भाषाओं के कंटेंट का है जहां तक कंटेंट की बात है गूगल के दिशानिर्देश हमेशा एक ही रहे हैं कि ये अपना कंटेंट आप यूजर्स के लिए और उनके अनुसार बनाएं और ये बात भाषा के लिए भी समान रूप से मान्य है तो अगर मान लीजिए आपके यूजर हिंदी में अपने कंटेंट को पसंद करते हैं तो आपको हिंदी में लिखना चाहिए अगर इसी जगह आप के उपयोगकर्ता है जो कंटेंट पढ़ने वाले लोग हैं वो हिंगलिश में कंटेंट की तलाश रहे हैं तो आप बेझिझक इंग्लिश में अपना कंटेंट लिख सकते हैं उसमें किसी भी प्रकार की डर या झिझक की कोई आवश्यकता नहीं है

आखरी सोच

यदि आप एक हिन्दी ब्लॉग शुरू करने जा रहें है तो ये मेरी सलाह Hindi होगी। कई ऐसे विजिटर है जो अपनी मूल भाषा में कंटेंट पढना पसंद करते है।लेकिन एक बात का ध्यान रखें important keywords और ऐसे वर्ड जो English में ही अच्छे लगते हैं उन्हें English में ही लिखें।

हालंकि यह पूरी तरह से आप पर निर्भर है कि कौन सी भाषा में आप अच्छा परफॉर्म कर पाएंगे। साथ ही किस भाषा में ज्यादा से ज्यादा कंटेंट आसानी से लिख सकते हैं और विजिटर को समझा पाएंगे।

मुझे आशा है कि इस आर्टिकल को पढने के बाद Hindi औरHinglish ब्लॉग के बारे में आपकी सारी confusion clear हो गयी होगी।

छोटा सा निवेदन, अगर यह आर्टिकल आपके लिए मददगार साबित हुई है, तो इसे शेयर करना न भूलें!

महत्वपूर्ण लिंक